इस ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

शनिवार, 5 नवंबर 2016

व्यंग्य : देशी ड्रैगन


- भाई नफे!
- हाँ बोल भाई जिले!
- किन हसीन ख्यालों में खोया हुआ मुस्कुरा रहा है?
- भाई मैं तो चीनी ड्रैगन की हालत देखकर मुस्कुरा रहा था।
- क्यों क्या हुआ चीनी ड्रैगन को?
- होना क्या है बेचारा अधमरा हो रखा है।
- वो भला कैसे?
- भाई इस दिवाली देशवासियों ने देशभक्ति का दम दिखाया और चीनी माल का बहिष्कार कर चीनी ड्रैगन की हालत खस्ता कर दी।
- सुना है भाई कि इस बार व्यापारी वर्ग ने इस काम में बड़ी भूमिका निभाई।
- हाँ भाई इस बार व्यापारी भाइयों ने चीनी ड्रैगन की नैया डुबोने में पूरी भूमिका निभाई। इस बार दिवाली पर चीनी सामान की खपत में 60% की गिरावट दर्ज की गई, जिसके कारण  चीनी ड्रैगन अधमरा हो रखा है।
- मतलब कि अभी भी अपने देश में 40% ऐसे महान लोग मौजूद हैं, जो चीनी सामान को इस्तेमाल करने में गर्व करते हैं।
- हाँ भाई दुर्भाग्यवश ऐसे महान लोग भी इस देश में मौजूद हैं।
- वैसे कौन हैं ये महान लोग?
- ये महान लोग देशी ड्रैगन  हैं।
- देशी ड्रैगन?
- हाँ भाई देशी ड्रैगन।
- भाई अब तू कंफ्यूज मत कर, बल्कि इनके बारे में खुलके बता।
- भाई देशी ड्रैगन ऐसे महान लोग हैं जो इस देश में रहते और यहाँ का खाते बेशक हैं लेकिन इन्हें इस देश और इसके नफे-नुकसान से कोई मतलब नहीं है। ये लोग तो हमेशा इस चिंता में डूबे रहते हैं कि इन्हें किसी प्रकार की कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए बल्कि इनका स्वार्थ सिद्ध होते रहना चाहिए।
- भाई इन देशी ड्रैगनों की पहचान क्या है?
- भाई इन देशी ड्रैगनों को आसानी से पहचाना जा सकता हैं। हर गली-मोहल्ले और नुक्कड़ पर इनकी उपस्थिति मिल जाएगी। इनमें से कुछ लोग दिवाली से पहले और बाद में चीनी सामान खरीदने की वकालत करते हुए मिल जाते हैं और कुछ पड़ोसी देश के कलाकारों के लिए आँसू बहाते दिख जाते हैं। कुछ आतंकियों के जनाजों में छाती पीटते हुए देश विरोधी नारे लगाते हुए मिल जाते हैं तो कुछ किसी मुठभेड़ में अपराधियों के मारे जाते ही सेना अथवा पुलिस के विरुद्ध मोर्चा ले जाँच आयोग बिठाने की सिफारिश करते हुए दिख जाते हैं।
- आखिर कैसे लोग हैं ये?
- लोग नहीं भाई देशी ड्रैगन बोल।
- हाँ भाई ये लोग सही मायने में ड्रैगन ही हैं। भारत की पवित्र भूमि में पल रहे अपवित्र देशी ड्रैगन।
- अब तू ठीक से इन्हें समझा।
- हाँ भाई बिलकुल समझ गया। पर ये तो बता कि इन दिनों इन देशी ड्रैगनों के हाल क्या हैं?
- इन दिनों बेसुध होकर पड़े हुए हैं बेचारे।
- हालत ज्यादा नाजुक तो नहीं हो गई इनकी।
- भाई इस समय देश के हालात ही ऐसे हो रखे हैं कि इनकी हालत नाजुक होना लाजिमी है। मुझे तो इस बात का डर है कि कहीं आए दिन लगनेवाले सदमों से ये मर न जाएँ।
- हा हा हा भाई अगर ऐसा हुआ तो बढ़िया ही रहेगा। कम से कम इस देश की धरती से फालतू का कुछ बोझ तो कम हो जाएगा। 

लेखक : सुमित प्रताप सिंह

एक टिप्पणी भेजें
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...