मंगलवार, 20 मार्च 2012

देश के दिल दिल्ली को मिला अपना गान

दैनिक जागरण 18 मार्च 2012 में  दिल्ली गान


 आपको यह जानकर बहुत खुशी होगी कि देश के दिल दिल्ली को अपना गान (दिल्ली एंथम) मिल गया है। दिल्ली गान के रचयिता हैं सुमित प्रताप सिंह. इटावा में जन्मे सुमित प्रताप सिंह का पैतृक गाँव लालपुरा है   स्वर्गीय श्री महाराज सिंह तोमर के पोते, श्री सुरेश सिंह तोमर व श्रीमति शोभना तोमर के सुपुत्र ने यह इतिहास रचा है   इनकी ननिहाल मूसेपुरा, इटावा में है   इनके नाना का नाम श्री विश्वनाथ सिंह चौहान है   सुमित प्रताप सिंह दिल्ली में ही पढ़े-लिखे   इन्होंने इतिहास में बी.ए.भगत सिंह कॉलेज से किया व दिल्ली पुलिस में भर्ती हो गये   इन्हें बचपन से ही लेखन का शौक है तथा इन्हें युवा हास्य कवि पुरस्कार, प्रहरी अवार्ड व व्यंग्य सम्राट जैसे अनेक पुरस्कार मिल चुके हैं   यह करीब चार साल से सुमित के तड़के नाम से ब्लॉग लिख रहे हैं   सुमित प्रताप सिंह का गीत दिल्ली गान बन गया है   

दैनिक जागरण 19 मार्च पेज 5 दिनांक 19 मार्च 2012 में छाए हुए सुमित प्रताप सिंह
     
    बीते रविवार  (दिनांक-18.03.12) को दिल्ली के साकेत  डीएलफ मॉल में 'मेरा शहर मेरा गीतकी सीडी लांच करके दिल्‍ली की मेयर रजनी अब्‍बी ने इस पर अपनी मोहर लगा दी है और इस गीत की प्रशंसा में अपना वक्‍तव्‍य देकर माननीया मुख्‍यमंत्री शीला दीक्षित ने इस गीत को अक्‍टूबर,2010 में आयोजित राष्‍ट्रमंडल खेल के दौरान जारी किए गए 'मेरी दिल्‍ली मेरी शानगीत से बेहतर बतलाया है। 
 दैनिक जागरण 19 मार्च 2012 में संगीतकार आदेश श्रीवास्‍तव के विचार


दिल्ली गान को स्वर व गीत से सुसज्जित करने वाले आदेश श्रीवास्तव ने कार्यक्रम के दौरान सुमित प्रताप सिंह की भूरी-भूरी प्रशंसा की तथा सुमित प्रताप सिंह ने भी  उनके गीत को अपनी आवाज व संगीत देकर इतना मधुर बनाने के लिए आदेश श्रीवास्तव को धन्यवाद दिया सुमित प्रताप सिंह के माता-पिता, भाई अमित प्रताप सिंह, बहन संगीता सिंह तोमर (आपकी कलम घिस्सी), सुरेश यादव (चिमनी पर टंगे चाँद वाले अंकल), अविनाश वाचस्पति (अपने अन्ना चाचू) व  संतोष त्रिवेदी इत्यादि जाने-माने ब्लॉगर इस ऐतिहासिक क्षण के गवाह बनने को वहाँ उपस्थित थे
दैनिक जागरण 20मार्च, 2012 में दिल्ली गान गाते सुमित प्रताप सिंह 

15 टिप्‍पणियां:

मोनिका गुप्ता ने कहा…

बहुत बहुत बधाई हो सुमीत और संगीता आप को !!!

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

दिल्‍ली का दिल लूटकर ले गए दिल्‍ली के गीत प्रताप सिंह।

विनोद पाराशर ने कहा…

सुमित जी को बधाई!इस ऎतिहासिक उपलब्धि के लिए व ’कलम घिस्सी’उर्फ संगीता तोमर को बंधाई रविवार को हुए कार्यक्रम की शानदार रिपोर्टिंग के लिए. काश! मॆं भी इन यादगार क्षणों का साक्षी बन पाता.

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

अब तो सुमित वाकई गीत प्रताप सिंह हो गए...अन्नाजी के अनुसार !

बधाई !

Dhairya Pratap Sikarwar ने कहा…

ढेरो बधाइयाँ.

रवीन्द्र प्रभात ने कहा…

बहुत बहुत बधाई हो सुमीत...!

वन्दना ने कहा…

सुमित जी हार्दिक बधाइयाँ …………इस ऐतिहासिक उपलब्धि पर ।

Kailash Sharma ने कहा…

इस ऐतिहासिक उपलब्धि पर सुमित जी को बहुत बहुत बहुत बधाई...

पवन *चंदन* ने कहा…

एक इतिहास का जन्‍म हुआ है। आने वाला दिल्‍ली का समय सुमित का ऋणी रहेगा........

Dr.Anita Kapoor ने कहा…

बहुत बहुत बधाई हो सुमीत और संगीता आप को

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

बहुत बहुत बधाई

bk singh ने कहा…

Bahut Bahut Badhai
Sumeet Pratap Bhai
Ab to Aap wakai Chha Gaye
Bakee Kaviyon ko Kha Gaye
Dilli se Naam Juda Aapka
Hua ek sapna Poora Aapka
Bas Yunhee Karte Rahen Kamal
Aur Hon Khusiyon se malamal

singhSDM ने कहा…

प्रिय सुमित
एक ऐसे आदमी को जिससे बात होती रहती हो...... उसे इस तरह का सम्मान मिलना एक अद्भुत खुशी देता है. इस शानदार उपलब्धि पर आपका वन्दन.

सुमित प्रताप सिंह Sumit Pratap Singh ने कहा…

मोनिका गुप्ता जी, अविनाश वाचस्पति जी, भोले से डाक बाबू विनोद पाराशर जी, संतोष त्रिवेदी जी, धैर्य जी, प्रेम का भात लाए रवीन्द्र प्रभात जी, खामोश सफर पर निकलीं वंदना गुप्ता जी, बाल संसार के कैलाश शर्मा जी,चौखट पर खड़े पवन चाचा, डॉ. अनीता कपूर जी, बल्ले-बल्ले करते काजल कुमार जी, बी.के.सिंह जी और अपने मैनपुरी भैया पवन कुमार जी आप सभी का शुक्रिया
वैसे भी यह सब आपके स्नेह और दुआओं का ही असर है वर्ना अपन में कोई ऐसी खास बात तो नहीं है...

Kunwar Amit Singh (कुंवर अमित सिंह मुंढाड) ने कहा…

हमें अपने सुमित पे गर्व है,,अब दिल्ली दूर नहीं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...