शुक्रवार, 20 जनवरी 2012

सूरत बिगाड़ते सुरेश शर्मा



प्रिय मित्रो

सादर ब्लॉगस्ते!

           साथियो आप सभी को याद होगा कि बचपन में कार्टून फिल्मों के आप और हम कितने दीवाने थे और कार्टून फिल्म देखना हमारे जीवन की दिनचर्या थी. बिल्लू, पिंकी, साबू और चाचा चौधरी जैसे कार्टूनी अवतारों की कॉमिक्स कितना आनंद देती थीं उन दिनों. आज आपसे मिलवाने जा रहा हूँ अपने कार्टूनों से सबको हँसाने वाले कार्टूनिस्ट सुरेश शर्मा जी से. सुरेश शर्मा जी का जन्म बिहार राज्य के मुंगेर नामक स्थान पर हुआ. इन्होंने बहुत छोटी उम्र से ही कार्टून बनाना आरंभ कर दिया था. जब यह पढ-लिख गए तो इनके माता-पिता से इनकी आज़ादी बर्दाश्त न हुई और इनका विवाह कर इन्हें श्रीमती सुरेश शर्मा (हमारी भाभी जी) के अंतर्गत नियुक्त कर दिया गया. विवाह के उपरान्त भाभी जी के साथ सुरेश शर्मा जी रांची (झारखण्ड) में बस गए (या फिर भाभी जी की आज्ञानुसार बसना पड़ा. हो सकता है उनके डर से बसे हों. अब आप जो भी समझें). बचपन से कार्टून बनाने के प्रति इनका इतना अधिक लगाव रहा कि आगे चलकर इनके कार्टून ही इनकी पहचान बन गए.

सुमित प्रताप सिंह- सुरेश शर्मा जी नमस्कार! कैसे हैं आप?

सुरेश शर्मा- जी सुमित जी ठीक-ठाक हूँ. आप अपनी सुनाएँ.

सुमित प्रताप सिंह- जी मैं भी ठीक-ठाक हूँ. कुछ प्रश्न लाया हूँ आपके लिए.

सुरेश शर्मा- अब प्रश्न ले ही आये हो तो पूछ डालो.

सुमित प्रताप सिंह- आप इस ब्लॉग नामक भंवर में कब और कैसे फँसे?

सुरेश शर्मा- आज से चार साल पहले ब्लॉग क्या बला है यह मुझे पता भी न था, कार्टूनिस्ट कृतीश भट्ट के प्रेरित करने पर मैंने  ब्लॉगिंग शुरू की और अब ब्लॉग जगत में मेरी भी कुछ पहचान बन गई है.

सुमित प्रताप सिंह- प्रकृति द्वारा निर्मित किसी भी आदमी के अच्छे-खासे चेहरे को आप क्या बना डालते हैं. आपको ऐसा करते हुए उस मासूम पर दया नहीं आती?

सुरेश शर्मा- कार्टून शब्द ही ऐसा है जिससे यह पता चल जाता है की जब किसी को कार्टून की शक्ल में ढाला जायेगा तो उसकी शक्ल क्या होगी ..मुझे किसी का चेहरा बिगाड़ने में कोई बुराई नजर नहीं आती है ..आप खुद जब कार्टून की शक्ल में अपना चेहरा देखोगे तो अपने आप पर मुस्कुरा उठोगे ..इस कला की यही तो पूँजी है.
(जब बनेगा तभी तो मुस्कराएँगे. जाने कब सुरेश जी मेरा कार्टून बनाएंगे?)

सुमित प्रताप सिंह- आपने अपना पहला कार्टून कब और क्यों बनाया?

सुरेश शर्मा- मेरा पहला कार्टून हास्य पत्रिका मधु मुस्कान में प्रकाशित हुआ. यह प्रयास मेरे स्वर्गीय पापा के प्रोत्साहन से सफल हुआ ..और उन्ही की प्रेरणा से मैंने पहला कार्टून बनाया और आज एक कार्टूनिस्ट के रूप में पहचाना जाता हूँ.

सुमित प्रताप सिंह- आप कार्टून बनाते क्यों हैं?

सुरेश शर्मा- समाज में फैले भ्रष्टाचार, लूट खसोट, को देख मन आक्रोशित हो जाता है तब मैं इनका विरोध अपने कार्टूनों के माध्यम से करने को बाध्य हो जाता हूँ. 

सुमित प्रताप सिंह- किस विषय पर कार्टून बनाना आपको सबसे प्रिय है?

सुरेश शर्मा- राजनीति में भ्रष्टाचार, सामाजिक कुरीतियाँ, इन विषयों पर कार्टून बनाना मुझे पसंद है.

सुमित प्रताप सिंह- अपनी कार्टून रचनाओं से समाज को क्या सन्देश देना चाहते हैं?

सुरेश शर्मा- समाज के सामने भ्रष्टाचार को बेनकाब कर मेरे मन को सुकून मिलता है. मैं अपने कार्टून के माध्यम से आम जनता को समाज के प्रति देश के प्रति जागरूक होने का सन्देश देता आया हूँ और आगे भी ये सिलसिला जारी रखूँगा.

सुमित प्रताप सिंह- एक अंतिम प्रश्न. "ब्लॉग लेखन द्वारा हिंदी का विश्व में प्रचार और प्रसार."  इस विषय पर क्या आप अपने कुछ विचार रखेंगे?

सुरेश शर्मा- ब्लॉग लेखन हिंदी के प्रचार प्रसार के लिए एक सशक्त भूमिका निभा सकता है, अतः हमें हिंदी ब्लॉग लेखन को प्रोत्साहित करना ही चाहिए. 

(इतना कहकर सुरेश शर्मा जी अपना पैन और कागज़ उठाकर कुछ बनाने लगे. मैंने अनुमान लगाया कि शायद मेरा कार्टून बनाया जा रहा है, किन्तु वह तो कुछ और ही बनाने में मस्त थे. उन्होंने वादा किया कि वह एक दिन मेरा भी कार्टून बनाकर मुझे हंसाएँगे. कहीं उनका वादा चुनावी वादे जैसा न निकले?)

सुरेश शर्मा जी के कार्टून देखकर मुस्कराना हो तो पधारें http://sureshcartoonist.blogspot.com पर...

15 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

कार्टून बनाना भी कमाल की विधा है ... एक कार्टून , सम्पूर्ण अभिव्यक्ति .... एक कार्टून यहाँ बनता था . सुरेश शर्मा जी का साक्षात्कार भी बहुत बढ़िया रहा

रश्मि प्रभा... ने कहा…

कार्टून बनाना भी कमाल की विधा है ... एक कार्टून , सम्पूर्ण अभिव्यक्ति .... एक कार्टून यहाँ बनता था . सुरेश शर्मा जी का साक्षात्कार भी बहुत बढ़िया रहा

सदा ने कहा…

सुरेश शर्मा जी से यह साक्षात्‍कार और फिर इस कला की यही तो पूँजी है.जब बनेगा तो मुस्‍कराएंगे ...बहुत ही अच्‍छी बात ...आभार सहित शुभकामनाएं ।

MOHAN KUMAR- 9811625224 ने कहा…

glad to know about suresh sharma.

अविनाश वाचस्‍पति अन्‍नाभाई ने कहा…

सूरत अगर बिगड़ती है तो बिगड़ जाए
सीरत सुधरनी चाहिए
धरा अपनी धरा ममता लुटाती रहे
नैतिकता मन में संजोई रहनी चाहिए
बुराईयां दिखलाकर, करके उन पर कूची से चोट
दांत आपके पढ़कर उनको लगाते हैं लोट
मन में बसी बुराईयों को देते हैं कचोट
फिर नहीं भाते पाए हुए भी 23 लाख के नोट

शिवम् मिश्रा ने कहा…

सब से पहले तो सुरेश दादा को प्रणाम और बहुत बहुत बधाइयाँ कि आजकल वो दोबारा उन्ही गलियों में दोबारा घूम फिर रहे है जहाँ उन्होंने अपना बचपन गुजरा है ... इस के बाद एक बार फिर उनको बहुत बहुत धन्यवाद कि उन्होंने मेरा बचपन काफी सुखद बनाया अपने कार्टूनों से ... अब आजकल मेरा बेटा उनका ही बनाया हुआ मेरा कार्टून देख देख खुश होता है ... जय हो सुरेश दादा आपकी !

सुमित जी आपका बहुत बहुत आभार कि आपने आज सुरेश दादा से फिर से परिचय करवा दिया { और हाँ मेरी प्रोफाइल में लगा यह कार्टून सुरेश दादा का ही बनाया हुआ है ... ;-) }

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

अच्छा लगा सुरेश का परियच पाकर. धन्यवा.

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सुरेशजी से मिलकर अच्छा लगा ..... उनके कार्टून बहुत बढ़िया होते हैं ... उनके ब्लॉग पर देखा है ...

G.N.SHAW ने कहा…

सुरेश शर्मा जी से परिचय अच्छा लगा ! एक कार्टून भी होए तो सोने पे सुहागा ! बधाई सुन्दर प्रस्तुति

संगीता तोमर Sangeeta Tomar ने कहा…

सार्थक पोस्ट.

देवांशु निगम ने कहा…

वाह वाह !!! बढ़िया मिलवाया आपने....

सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट) ने कहा…

आप सभी दोस्तों के हम अत्यंत आभारी हैं ..और आप सबके सामने हम सुमित जी से यह वादा करते हैं की जल्द ही उनका कार्टून हम बनायेंगे ..मेरा ये वादा नेताओं का वादा साबित नहीं होगा ...

बेनामी ने कहा…

आदरणीय सुरेश शर्मा जी के बारे मैं विस्तृत जानकारी पाकर खुशी हुई.. असल मैं कार्टून महज़ एक चित्र ही नहीं हैं, बहौत गहरी सोच या सेन्स ऑफ ह्यूमर की कसौटी भी होती हैं... जो सुरेश जी मैं झलकती हैं.... उनकी इस कला को मेरा नमन

Padm Singh ने कहा…

सुरेश जी के बारे मे जानना अच्छा लगा...
सामाजिक परिस्थिति पर सतर्क नज़र रखना और रोचक अंदाज़ मे जनता तक संप्रेषित करने की ज़िम्मेदारी के कारण एक कार्टूनिस्ट की ज़िम्मेदारी बहुत महत्वपूर्ण होती है। सुरेश जी इस विधा के माहिर खिलाड़ी हैं। बधाई !

अमित श्रीवास्तव ने कहा…

vaah ji vaah..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...