गुरुवार, 3 अक्तूबर 2019

कविता : बिहार डूब रहा है


माचार हृदय विदारक है
बिहार डूब रहा है
जो था कभी संस्कृति का वाहक
वो बिहार डूब रहा है

प्रलय ने उत्पात मचाया
या लगा किसी प्रेत का साया
प्रकृति का प्रतिशोध है  
या फिर किसकी है ये माया
चन्द्रगुप्त सम्राट का हृदय
पीड़ा से भर पूछ रहा है  
जो था कभी आर्यावर्त का नायक  
वो बिहार डूब रहा है

राजनीति कुलटा देखो
कैसे करती हँसी-ठिठोली
मतिभ्रष्ट होकर विकास  
बोल रहा विनाश की बोली  
गुरु चाणक्य के मन-मस्तिष्क को
सूझे से भी न कुछ सूझ रहा है
जो था कभी विकास का परिचायक
वो बिहार डूब रहा है

बुद्ध के ज्ञान को जिसने
पूरे जग में फैलाया
शांति-अहिंसा का जिसने
विश्व को पाठ पढ़ाया
उस अशोक का कर्म स्थल
अव्यवस्था से जूझ रहा है
जो था कभी संस्कृति का ध्वजावाहक
वो बिहार डूब रहा है

मिल-जुल कर करें जतन
और उठायें हम सब ये बीड़ा
ये पीड़ा है नहीं बिहार की
ये हम सबकी भी है पीड़ा
तकता राह हमारी वो कबसे
आओगे कब ये बूझ रहा है
जो था कभी प्रगति का महानायक  
वो बिहार डूब रहा है 

लेखक : सुमित प्रताप सिंह  

सोमवार, 26 अगस्त 2019

कविता - नन्हा फरिश्ता


मेरे घर में आया है 
एक नन्हा-मुन्ना फरिश्ता
उसके मासूम चेहरे से 
बस प्यार ही प्यार टपकता

पूरे घर में घूमा करता 
खूब वो धूम मचा के 
उससे रखना पड़ता है
घर का सामान बचा के
मंद-मंद मुस्कुरा के वो 
जब प्यार से देखा करता
तो उसके खिले चेहरे पर
दिल जाकर ये अटकता 

मायूसी को कर दिया विदा
अब खुशी ही घर में हँसती है
उस नन्हे-मुन्ने फरिश्ते में
जान सभी की बसती है
जब पापा-पापा कहके 
वो सीने से आ चिपटता
तो पापा के दिल में फिर
स्नेह का भँवर उमड़ता।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...